Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana 2021

Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana | Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana Application Form |  उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना | उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना आवेदन फॉर्म |  मुख्यमंत्री सौभाग्यवती किट योजना

उत्तराखंड सरकार द्वारा राज्य में गर्भवती महिलाओं और नवजात बालिकाओं की देखभाल के लिए Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana शुरू की गई है। इस योजना के तहत, सरकार एक महालक्ष्मी किट प्रदान करेगी जिसमें माँ और बच्चों को पौष्टिक भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुएँ होंगी। यह योजना नवजात कन्या और मां के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयोगी है।

आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से अटल उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना की जानकरी प्रदान कर रहे है। उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना से सम्बंधित किसी भी प्रकार योजना की जानकारी के लिए हमारे साथ अंत तक बने रहे।

Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana

Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana

मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना का शुभारंभ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सीएम कैंप कार्यालय में किया। मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड राज्य की गर्भवती महिलाओं और नवजात बच्चों को उचित स्वच्छता सुनिश्चित करने और बेहतर स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए आवश्यक पौष्टिक भोजन प्रदान करना होगा। इस योजना के तहत पहली दो लड़कियों या जुड़वां लड़कियों के जन्म पर मां और नवजात लड़की को महालक्ष्मी किट प्रदान की जाएगी।

इस योजना के तहत इस योजना के लाभार्थी गर्भवती महिलाएं और नवजात शिशु होंगे। इस योजना के तहत लाभार्थी को एक महालक्ष्मी किट प्रदान की जाएगी जिसमें बच्चे और मां दोनों के लिए पौष्टिक खाद्य पदार्थ और अन्य सामान जैसे कपड़े, साबुन आदि शामिल होंगे। मां और बच्चे दोनों को अलग-अलग किट मुहैया कराई जाएंगी।

इस योजना के प्रथम चरण में राज्य भर में कुल 16929 लाभार्थी इस योजना से लाभान्वित हुए हैं और एक साल में 50 हजार से ज्यादा लोग लाभान्वित होंगे।

Mukhyamantri Mahalaxmi Scheme Highlights
आर्टिकलउत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना
आरम्भ की गईउत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी  द्वारा
संबंधित विभागमहिला सशक्तिकरण और बाल विकास
लाभार्थीप्रदेश की गर्भवती महिलाएं एवं नवजात कन्या
उद्देश्यगर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य और पोषण देखभाल प्रदान करना।
आधिकारिक वेबसाइटयहाँ क्लिक करें

उत्तराखंड महालक्ष्मी योजना का उद्देश्य

  • Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana का मुख्य उद्देश्य गर्भवती महिलाओं और नवजात बच्चियों को पौष्टिक आहार और अन्य आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध कराकर उनकी देखभाल करना है।
  • उत्तराखंड राज्य की गर्भवती महिलाओं और नवजात बच्चों की उचित स्वच्छता और स्वास्थ्य सुनिश्चित करना।
  • लड़कियों को प्रोत्साहित करना और लड़कियों के प्रति समाज का नजरिया बदलना है।

Click Here To Read About: वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना 2021

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना के लाभ

  • उत्तराखंड महालक्ष्मी योजना के तहत, उत्तराखंड की राज्य सरकार गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं के बेहतर स्वास्थ्य के लिए उचित स्वच्छता और पौष्टिक भोजन प्रदान किआ जायगा।
  • यह योजना केवल गर्भवती महिलाओं और नवजात कन्या के लिए है।
  • महिला अधिकारिता और बाल विकास राज्य मंत्री ने इस योजना की शुरुआत की है।
  • मां-बेटी की उचित देखभाल को प्रोत्साहित करने के लिए, राज्य सरकार 30 जून से राज्य में मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना शुरू करने जा रही है।
  • इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को एक किट प्रदान की जाएगी जिसमें कपड़े, पौष्टिक भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुएं आदि होंगी।
  • इस योजना के तहत नवजात शिशुओं को मौसम के अनुसार कपड़े, पौष्टिक भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुओं जैसे तेल पाउडर आदि युक्त एक किट प्रदान की जाएगी।
  • यह योजना उन सभी गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद होगी जो वित्तीय समस्याओं का सामना करती हैं और गर्भावस्था के दौरान उचित पौष्टिक भोजन प्राप्त करने में असमर्थ हैं।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य में बालिकाओं की जन्म दर में वृद्धि की जाएगी।

महिलाओ किट में सामान की सूची

उत्तराखंड महालक्ष्मी योजना के तहत गर्भावस्था किट में निम्नलिखित वस्तुएं प्रदान की जाती हैं।

250 बादाम गिरी/सुखी खुमानी/अखरोटदो कॉटन गाउन/साड़ी/सूट
एक शॉल गर्म फुल साईज500 ग्राम छुआरा
1 स्कॉर्फ कॉटन/गर्म स्टैंडर्ड साइजदो जोड़े जुराब स्टैंडर्ड साइज
एक तौलिया बड़े साइज कादो पैकेट सैनिटरी नैपकिन (आठ प्रति पैकेट)
दो जोड़े बेड शीट (तकिये के कवर सहित)एक नेल कटर
200 एम.एल हैण्डवाश लिक्विडएक नारियल/तिल/सरसों/चुलू का तेल
दो कपड़े धोने का साबुनदो नहाने का साबुन

नवजात शिशु किट में वस्तुओं की सूची

Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana के तहत नवजात शिशु किट में निम्नलिखित वस्तुएं प्रदान की जाती हैं।

मौसम के अनुसार सूती या गर्म दो जोड़े शिशु के कपड़े, टोपी और जुराब सहितएक पैकेट कॉटन डाइपरएक तेल
एक बेबी तौलिया कॉटन सॉफ्ट1 पाउडरतीन बेबी साबुन
एक रबर शीटएक समस्त सामग्री पैक करने के लिए सूती बैग शामिल रहेगादो बेबी ब्लैंककेट गर्म अथवा कॉटन (मौसम अनुसार)
टीकाकरण कार्डस्तनपान पोषण कार्ड 

पात्रता मापदंड

Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana के आवेदन करते समय आवेदक को निम्नलिखित पात्रता मानदंड पूरा किया जाना अनिवार्य है:

  • लाभार्थी उत्तराखंड का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना का लाभ लेने के लिए गर्भवती महिला की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए।
  • यह योजना केवल उत्तराखंड की गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं के लिए है।
  • आयकर का भुगतान करने वाले सरकारी कर्मचारियों के परिवार इस योजना के लिए पात्र नहीं हैं।

आवश्यक दस्तावेज़

Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana के आवेदन करते समय निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है:

  • आधार कार्ड।
  • पते का सबूत।
  • निवास प्रमाणपत्र।
  • परिवार रजिस्टर की प्रति।
  • आंगनवाड़ी केंद्र में पंजीकरण, सरकारी या निजी मां-शिशु रक्षा कार्ड की प्रति (MCP कार्ड)।
  • संस्थागत प्रसव प्रमाण पत्र (यदि प्रसव किसी आकस्मिक कारणवश रास्ते में या घर पर हुआ हो तो आंगनबाडी कार्यकर्ता/आशा कार्यकर्ता या चिकित्सक द्वारा जारी प्रमाण पत्र)।
  • पहली दूसरी / जुड़वां लड़की के जन्म के लिए स्व-सत्यापित घोषणा।
  • आय प्रमाण पत्र।
  • गर्भवती महिलाओं का आयु प्रमाण।
  • बैंक खाता पासबुक।
  • मोबाइल नंबर।
  • पासपोर्ट साइज फोटो।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

Uttarakhand Mukhyamantri Mahalaxmi Yojana के लिए आवेदन करने के लिए आपको नीचे दिए गए सरल चरणों का पालन करना होगा:

  • सबसे पहले आपको अपने नजदीकी आंगनबाड़ी केंद्र पर जाना होगा।
  • फिर आपको आंगनवाड़ी कार्यकर्ता से उत्तराखंड महालक्ष्मी योजना का आवेदन फॉर्म लेना होगा।
  • फिर आवेदन पत्र में पूछी गई सभी जानकारियों को ध्यानपूर्वक भरें।
  • अब आपको पूरी तरह से भरे हुए आवेदन पत्र के साथ सभी उल्लिखित दस्तावेजों को संलग्न करना होगा और इसे आंगनवाड़ी केंद्र में जमा करना होगा।
  • आवेदन पत्र जमा करने के बाद, आंगनवाड़ी अधिकारियों द्वारा दस्तावेजों और आवेदन पत्र का सत्यापन किया जाएगा।
  • आवेदन पत्र के सत्यापन के बाद, लाभार्थी को उत्तराखंड महालक्ष्मी योजना का लाभ मिलना शुरू हो जाएगा।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना की शुरुआत किसने की?

मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा शुरू की गई है।

मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना क्या है?

मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना उत्तराखंड सरकार द्वारा राज्य की गर्भवती महिलाओं और नवजात कन्या के लिए शुरू की गई एक सामाजिक कल्याण योजना है।

महालक्ष्मी किट क्या है?

महालक्ष्मी किट सरकार द्वारा मां और बच्चे को प्रदान की जाएगी जिसमें पौष्टिक खाद्य पदार्थ और अन्य आवश्यक वस्तुएं होंगी जो उनके लिए महत्वपूर्ण हैं।
गर्भवती महिलाओं के लिए महालक्ष्मी किट में बादाम, गुठली, सुखी, कुमाऊँनी, अखरोट, खजूर, दो जोड़ी जुराबें, तौलिया, कंबल, शॉल, चादर, सैनिटरी नैपकिन, सरसों का तेल, नेल कटर, साबुन और कपड़े धोने का साबुन शामिल है।
बच्चे की महालक्ष्मी किट में बेबी कपड़े, सूती नैपी, बेबी टॉवल कॉटन, बेबी सोप, तेल, बेबी पाउडर, रबर शीट, बेबी ब्लैंकेट, टीकाकरण कार्ड, स्तनपान पोषण कार्ड शामिल हैं।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

उत्तराखंड महालक्ष्मी योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपको अपने नजदीकी आंगनवाड़ी केंद्र पर जाना होगा और आंगनवाड़ी अधिकारी इस योजना के लिए आवेदन करने में आपकी मदद करेंगे।

Leave a Comment

− 1 = 1

error: Content is protected !!