मध्य प्रदेश श्रमिक रोजगार सेतु योजना 2021: रजिस्ट्रेशन | MP Rojgar Setu Yojana

MP श्रमिक रोजगार सेतु योजना 2021 | MP Rojgar Setu Yojana | रोजगार सेतु योजना | Shramik Rojgar Scheme |
Apply Online 2021|  ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | मध्य प्रदेश रोजगार सेतु योजना आवेदन

MP Rojgar Setu Yojana- मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ने लॉकडाउन की स्थिति में दूसरे राज्यों से लोटे प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से “श्रमिक रोजगार सेतु योजना” की शुरआत की है। सभी श्रमिकों को रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए प्रवासियों का एक कौशल रजिस्टर तैयार किया जायेगा।

MP Rojgar Setu Yojana
MP Rojgar Setu Yojana

MP Rojgar Setu Yojana क्या है?

  • इस योजना के तहत प्रवासी मजदूरों को उनकी योग्यता के आधार पर रोजगार प्रदान करवाया जाएगा।
  • योजना का लाभ उठाने के लिए सभी श्रमिकों को श्रमिक रोजगार सेतु योजना 2020 के तहत आवेदन करना होगा।
  • 27 मई से इन श्रमिकों की सूची बनायीं गयी है जिसके अनुसार रजिस्ट्रेशन का कार्य भी शुरू किया जा रहा है।
  • मध्य प्रदेश में सभी लौटने वाले प्रवासी श्रमिक सांसद रोज़गार सेतु योजना पोर्टल पर प्रवासी मज़दूर ऑनलाइन आवेदन / पंजीकरण फॉर्म भरकर आवेदन कर सकेंगे।
  • इस योजना के शुरू होने से सभी प्रवासी मजदूरों को काफी राहत प्राप्त होगी।
  • इस योजना से लाभार्थियों को मनरेगा के तहत रोजगार मिलेगा।
  • रोज़गार सेतु पोर्टल पर मौजूद जानकारी में व्यक्तिगत विवरण, शैक्षिक योग्यता, कौशल, पहले की नौकरी, पिछले वेतन, पिछले नियोक्ताओं, मासिक वेतन और प्रवासियों के काम करने के इच्छुक क्षेत्र शामिल होंगे।
  • अब तक, कोरोनोवायरस लॉकडाउन के बीच लगभग 6.5 लाख प्रवासी कर्मचारी मध्य प्रदेश लौट आए हैं।
  • उम्मीद है कि लगभग 13 लाख प्रवासी मजदूर एमपी राज्य में लौट आएंगे।
  • इस योजना के ज़रिये वापस आये प्रवासी मजदूरों की आर्थिक स्थिति को सुधारना है।

श्रमिक स्पेशल ट्रेन: जानिए ट्रेन की लिस्ट, रूट, टाइमिंग, कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन

MP Rojgar Setu Yojana के उद्देश्य

कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में लॉक डाउन की स्थिति है। अन्य राज्यों में काम करने गए मजदुर अब अपने राज्य में वापिस लौट रहे है। वापस आये मजदूरों श्रमिकों के पास अपना जीवन यापन करने के लिए रोजगार नहीं है जिसकी वजह से उनकी आर्थिक दशा भी कमज़ोर हो गयी है। इस कारण मध्य प्रदेश सरकार ने MP Rojgar Setu Yojana को शुरू किया है। इस योजना के जरिये सरकार निम्नलिखित उद्देश्यों को पूरा करना चाहती है –

  • प्रवासी मजदूरों को रोजगार प्रदान करना।
  • मजदूरों में आत्मनिर्भरता आएगी।
  • दूसरे राज्यों से लौटने वाले श्रमिकों को बहुत राहत प्राप्त होगी।
  • मजदूरों श्रमिक अपना जीवन यापन अच्छे से कर पाएंगे।
  • मजदूरों की आर्थिक दशा सुधरेगी।

Eligibility Criteria for MP Rojgar Setu Yojana

  • आवेदक मध्य प्रदेश का स्थीयी निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक मजदूर श्रमिक और बेरोजगार होना चाहिए।
  • मुख्यमंत्री जन-कल्याण (संबल) योजना’ अथवा ‘भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल’ में पंजीयन की पात्रता रखने वाले लाभार्थ ही पात्र है।
  • बैंक खाता होना चाहिए।

Uttarakhand Free Laptop distribution scheme 2020

 Required Documents MP Rojgar Setu Yojana

  • समग्र पोर्टल पर आईडी (जिनका समग्र आईडी नहीं है, प्रक्रिया अनुसार समग्र आईडी जनरेट की जाएगी)
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पहचान पत्र
  • श्रमिक कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

श्रमिक रोजगार सेतु योजना

Which areas will get employment

  • भवन और अन्य निर्माण श्रमिक
  • ईंट भट्ठा खनन
  • कपड़ा
  • फैक्टरी
  • कृषि और संबद्ध गतिविधियाँ
  • अन्य सरकारी सेक्टर्स

नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट में अपना नाम देखे

MP Rojgar Setu Yojana रजिस्ट्रेशन कैसे करे?

  • सबसे पहले तो जिन प्रवासी मजदूरों के पास समग्र आईडी नहीं है, प्रक्रिया अनुसार उनकी समग्र पोर्टल पर आईडी जनरेट की जाएगी।
  • इसके बाद ही इन श्रमिकों का सर्वे, सत्यापन एवं पंजीयन कार्य पोर्टल पर समग्र आईडी का उल्लेख करते हुए सुनिश्चित किया जाएगा।
  • निर्देश अनुसार पोर्टल पर समग्र आईडी व आधार कार्ड नम्‍बर अंकित किया जाना जरूरी है।
  • सर्वे, सत्यापन और पंजीयन उन्हीं श्रमिकों का किया जायेगा जो ‘मुख्यमंत्री जन-कल्याण (संबल) योजना’ अथवा ‘भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मंडल’ में पंजीयन की पात्रता रखते हैं।
  • सर्वे फार्म में पात्र प्रवासी श्रमिकों से जानकारी प्राप्‍त कर 3 जून 2020 के पहले पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा।
  • सर्वे फार्म को रिकार्ड में सुरक्षित रखे जाने के निर्देश भी दिए गए हैं।
  • ग्राम पंचायत के सचिव तथा नगरीय क्षेत्रों में वार्ड प्रभारी सर्वे फार्म भरने में आवेदक की सहायता सुनिश्चित करेंगे।
  • सारी कार्यवाही जिला कलेक्‍टर के मार्गदर्शन में की जाएगी।
  • नगर निगमों में निगम आयुक्त द्वारा अधिकृत अधिकारी, नगरीय क्षेत्र के लिए मुख्य नगरपालिका अधिकारी तथा ग्रामीण क्षेत्र के लिये मुख्य कार्यपालन अधिकारी होंगे।

rojgaar setu

प्रवासी श्रमिक पंजीकरण फॉर्म लिंक

  • प्रवासी श्रमिकों का संबल पोर्टल में रजिस्‍ट्रेशन के बाद उनको योजनाओ का लाभ दिया जाएगा।
  • पंजीयन की जानकारी ग्रामीण विकास विभाग को भी उपलब्‍ध कराई जाएगी।
  • जिससे इच्‍छुक श्रमिको को नरेगा में काम दिया जाएगा।
  • खाद्य विभाग द्वारा प्रधामंत्री गरीब कल्‍याण योजना के तहत पात्र श्रमिकों को मुफ्त में खाद्यान उपलब्‍ध कराया जाएगा।

Application process for MP Rojgar Setu Yojana

एमपी रोजगार सेतु योजना के आवेदन के लिए आपको निम्नलिखित प्रक्रिया को पूरा करना होगा।

mp 1

  • होम पेज खुलने पर आपको पंजीयन करे के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • अब नया पेज खुलने पर आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म प्राप्त होगा। जिसमे पूछी गयी सभी प्रकार जानकरी को सभी को भरना होगा।
  • सभी प्रकार जानकारी को भरने के बाद आपको Register Details के विकल्प पर क्लिक करना होगा। अब आपको लॉगिन करना होगा। उसके बाद ही आपका रजिस्ट्रेशन पूरा होगा।

Note-हमारी इस वेबसाइट का उद्देश्य आप तक सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओ की जानकारी पहुँचाना है।अगर आपको ये जानकारी सही लगे तो दूसरो के साथ भी साँझा कीजिये।कोई त्रुटि हो तो हमे जरूर बताए।

योजना के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQ)

श्रमिक रोजगार सेतु योजना किस राज्य की पेशकश है ?

इस योजना को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ने शुरू किया है।

श्रमिक रोजगार सेतु योजना का उद्देश्य क्या है ?

लॉकडाउन की स्थिति में दूसरे राज्यों से लोटे प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से “श्रमिक रोजगार सेतु योजना” की शुरुआत की गई है।

श्रमिक रोजगार सेतु योजना के लिए पंजीकरण कबसे शुरू होंगे ?

27 मई से इन श्रमिकों की सूची बनायीं गयी है जिसके अनुसार रजिस्ट्रेशन का कार्य भी शुरू किया जा रहा है।

किस तरह से श्रमिक रोजगार सेतु योजना में रोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा?

1) सबसे पहले कुशल मज़दूरों की हर पंचायत में सूची बनाई जाएगी।
2) फिर ‘रोजगार सेतु’ को श्रमिक प्लेटफॉर्म बनेगा जिसमें जिस तरह काम मजदूर जानते हैं उन्हें उस काम में लगाने की कोशिश की जाएगी।
3) अगर कोई मजदूर बाहर के प्रदेशों में काम करने जाएगा तो उसकी पूरी सूची भी बनाई जाएगी।
4) सूची से पता चलेगा कौन, किस प्रांत में है ताकि वहां भी उनकी देखभाल ठीक ढंग से हो पाएं।

 

Leave a Comment