बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना 2022: आवेदन फॉर्म

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना 2022 | Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana | Registration 2021 | Shatabdi Niji Nalkup Yojana Benefits

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना का उद्घाटन राज्य सरकार द्वारा कर दिया गया है। इस योजना के माध्यम से सरकार राज्य के किसानो को राहत प्रदान करना चाहती है। इस योजना के तहत किसान अपनी निजी जमीन नलकूप का कर सकता है। इस योजना के तहत सरकार राज्य के किसानों को नलकूप निर्माण के लिए सब्सिडी प्रदान करती है। इस लेख के माध्यम से आज हम आपको बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी प्रदान करेंगे। योजना से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी के लिए हमारे साथ अंत तक जुड़े रहे।

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना 2022

इस योजना का लाभ राज्य के किसानो को खेती से सम्बंधित सिचाईं की समस्या को हल करने में मिलेगा। इस योजना के तहत राज्य के किसानों को निजी भूमि पर नलकूप लगाने के लिए 328 रूपये प्रति मीटर की दर से 15000 रूपये की सब्सिडी प्रदान की जाती है। यदि किसान अपनी भूमि पर बोरवेल का निर्माण 100 मीटर पर करता है। तब किसान को 597 रूपये प्रति मीटर की दर से अधिकतम 35000 रूपये का अनुदान प्रदान किया जायेगा। साथ ही पंप के लिए 10000 रूपये की सहायता अलग से प्रदान की जाएगी। इस योजना के लाभ से किसानों को सिंचाई से जुड़ी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। राज्य के किसानों की कृषि पैदावार में भी वृद्धि होंगी।

बिहार देश का एक कृषि प्रदान राज्य है। बिहार की कुल जनसंख्या का 80 % हिस्सा कृषि पर निर्भर है। वर्तमान समय में बढ़ती पानी की समस्या तथा मॉनसून में आये बदलाव और भूजल की समस्या को ध्यान से रख कर सरकार द्वारा किसानों के लिए इस योजना के माध्यम से सिंचाई की समस्या को कम करना है। सिंचाई कृषि का प्रमुख कारक है। राज्य में अधिकतर कृषि भूजल पर आधारित है। बिहार में 90-95% जनसंख्या लघु एवं सीमान्त श्रेणी के किसानों की है। इन सब बातों को ध्यान में रख कर सरकार द्वारा बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना की शुरुआत की गयी है। यह योजना राज्य के सभी प्रखंडों के लिए प्रभावी है।

Bihar Niji Nalkup Yojana Highlights
आर्टिकल बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना
विभाग जल संसाधन विभाग
राज्य बिहार
लाभार्थी राज्य के किसान
आधिकारिक वेबसाइट Click Here

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना से संबंधित लाभ

बिहार निजी नलकूप योजना के लाभ निम्नलिखित हैं:-

  • इस योजना से राज्य के किसान लाभान्वित होंगे।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा सिंचाई के लिए अपना ट्यूबवेल स्थापित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के तहत रॉक ट्यूबवेल की बोरिंग के लिए 100 रुपये प्रति फीट की दर से 15,000 रुपये तक का अनुदान दिया जाएगा। मध्यम गहराई के नलकूप बोरिंग के लिए 182 रुपये प्रति फीट की दर से अधिकतम 35000 अनुदान राशि प्रदान की जाएगी।
  • साथ ही पंप के लिए अलग से 10 हजार रुपये दिए जाएंगे।
  • प्रत्येक जिले में अनुसूचित जाति के न्यूनतम 16 प्रतिशत और अनुसूचित जनजाति के 1 प्रतिशत किसानों का चयन किया जाएगा।

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना का उद्देश्य :-

बिहार निजी नलकूप योजना का उद्देश्य निम्नलिखित है:-

  • राज्य में वर्षा का स्तर बहुत कम है, जिसका फसलों पर काफी प्रभाव पड़ता है, कृषि पैदावार को बढ़ाना ही इस योजना का मुख्य उद्देश्य है।
  • इस योजना के तहत राज्य के किसानों को सिंचाई के लिए निजी नलकूप लगाने पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य के किसान आसानी से अपने खेतों की सिंचाई कर सकेंगे, जिससे उनकी फसल में सुधार होगा और किसानों की आय में भी वृद्धि होगी।
  • इस योजना के तहत बिहार सरकार का मुख्य उद्देश्य राज्य के किसानों का आर्थिक विकास करना है।
  • कृषि की पैदावार बढ़ेगी, तो किसानों की आय में भी बढ़ोतरी होंगी, तथा उनका आर्थिक विकास होगा।

Bihar Scholarship 2022 , New Registration, How to apply for Scholarship

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना के आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेज 

Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana का आवेदन निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता है-:

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • अधिवास
  • पहचान पत्र
  • कृषि योग्य भूमि के कागजात
  • भूमि प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • किसी अन्य संस्थान से संबंधित नलकूपों के लिए वित्तीय सहायता न लेने का शपथ पत्र।

Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana हेतु आवश्यक पात्रता मानदंड

इस योजना के लिए आवेदन करने हेतु आवेदक को निम्नलिखित पात्रता मानदंड को पूरा करना होगा –

  • आवेदक को बिहार राज्य का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है।
  • आवेदन के नाम 40 डेसीमल जमीन होनी चाहिए।
  • इस योजना के तहत बिहार के छोटे/सीमांत किसानों को प्राथमिकता दी जाएगी।
  • कृषक के पास कम से कम 0.40 एकड़ (40 मिलियन) कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए। किसान को एकल बोरिंग और सेट के लिए अनुदान प्रकल्पित होगा।
Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया

इस योजना के लिए आवेदन करने हेतु आपको निम्नलिखित प्रक्रिया का पालन करना होगा।

  • सबसे पहले आपको बिहार सरकार की लघु जल संसाधन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • होम पेज खुलने पर आपको आवेदन करने का विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • नया पेज खुलने पर आपको पंजीकरण के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा, पंजीकरण में पूछी गई सभी आवश्यक जानकारी जैसे आवेदक का नाम, पता, फ़ील्ड से संबंधित जानकारी, आधार संख्या, मोबाइल नंबर आदि को भरना होगा और फिर अपने आवश्यक दस्तावेज अपलोड करने होंगे। .
  • फिर आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना है। इसके बाद आपका आवेदन पूरा हो जाएगा।
  • उपरोक्त सभी चरणों का पालन करके आप अपना आवेदन पूर्ण कर सकते हैं।

Helpline Number

  • 0612-2215605/ 2215606
  • 0612-2217161/ 2217162
  • 0612-2217163/ 2217164
  • 0612-2217165/ 2217450
  • 0612-2217451/ 2217452

Do read our other articles on our website:-Click Here

Note:- How did you like the information provided by us, please let us know in the comment section. For more details of any other scheme stay connected with us on https://yojanasarkari.in/. Thank you

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना से सम्बंधित FAQ

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना क्या है?

इस योजना के तहत किसान अपनी निजी जमीन नलकूप का कर सकता है। इस योजना के तहत सरकार राज्य के किसानों को नलकूप निर्माण के लिए सब्सिडी प्रदान करती है।

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या हैं?

आवेदक का आधार कार्ड
अधिवास
पहचान पत्र
कृषि योग्य भूमि के कागजात
भूमि प्रमाण पत्र
बैंक खाता पासबुक
सक्रिय मोबाइल नंबर
पासपोर्ट साइज फोटो
किसी अन्य संस्थान से संबंधित नलकूपों के लिए वित्तीय सहायता न लेने का शपथ पत्र।

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना के लिए आवश्यक पात्रता मानदंड क्या हैं?

आवेदकों को खुद को नामांकित करने के लिए निम्नलिखित पात्रता मानदंड पारित करने की आवश्यकता है: –
आवेदक बिहार राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए।
इस योजना के तहत आवेदन करने वाले आवेदक के नाम 40 डेसीमल जमीन होनी चाहिए।
इस योजना के तहत बिहार के छोटे/सीमांत किसानों को प्राथमिकता दी जाएगी।
कृषक के पास कम से कम 0.40 एकड़ (40 मिलियन) कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए। किसान को एकल बोरिंग और सेट के लिए अनुदान प्रकल्पित होगा।

Leave a Comment

error: Content is protected !!