संत रविदास शिक्षा सहायता योजना 2022: आवेदन फॉर्म डाउनलोड

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना | Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana 2022 | Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana Application Form | Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana Application Process |

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी एक योजना है, जिसके तहत सरकार राज्य के श्रमिक वर्ग परिवार के बच्चों को उनके शिक्षा स्तर के अनुसार छात्रवृत्ति की वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इस योजना के तहत सरकार उन सभी कमजोर श्रमिक परिवारों के बच्चों को योजना का लाभ प्रदान करती है, जो अपने बच्चों को शिक्षित करने में आर्थिक कारणों की वजह से असमर्थ हैं। इसके लिए सरकार संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के माध्यम से बच्चों को उनकी कक्षा के अनुसार शिक्षा पूरी करने के लिए छात्रवृत्ति का वित्तीय लाभ प्रदान करती है।

उत्तर प्रदेश राज्य का जो भी श्रमिक परिवार अपने बच्चों को इस योजना का लाभ प्रदान कराना चाहता है और साथ ही इस योजना से संबंधित सभी जानकारी जैसे लाभ, पात्रता, आवेदन प्रक्रिया आदि की जानकारी इक्कठा करना चाहता है, तो उनसे अनुरोध है की हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े |

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना 2022

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का संचालन श्रम विभाग द्वारा किया जाता है। योजना के माध्यम से सरकार मजदूरी करने वाले परिवार के बच्चों को कक्षा 1 से 12 तक कक्षा स्तर के अनुसार स्कूली शिक्षा के लिए और फिर सरकारी संस्थानों में आईआईटी, पीयर टीचिंग, मेडिकल, इंजीनियरिंग आदि जैसे पाठ्यक्रमों को करने के लिए वित्तीय सहायता हर महीने प्रदान की जाती है, यह लाभ योजना में आवेदन करने वाले सभी पात्र परिवारों के दो बच्चों को प्रदान किया जाता है।

योजना का लाभ केवल संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत आवेदन करने वाले श्रमिक परिवारों के बच्चों को ही प्रदान किया जाएगा। राज्य के वे परिवार जो योजना की पात्रता को पूरा करते हैं और उन्होंने अभी तक इसमें आवेदन नहीं किया है, वे अब अपने बच्चों को योजना का लाभ प्रदान करने के लिए घर बैठे श्रम विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर आसानी से आवेदन कर सकते हैं।

Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana Highlights
योजना  संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
आरम्भ की गई Uttar Pradesh सरकार द्वारा
उद्देश्य बच्चों को शिक्षा पूरी करने हेतु आर्थिक सहयोग प्रदान करना
विभाग श्रम विभाग, उत्तर प्रदेश
योजना के लाभार्थी उ०प्र० राज्य के श्रमिक परिवारों के बालक/बालिकाएँ
आधिकारिक वेबसाइट Click Here

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का उद्देश्य

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारे देश में आज भी कई कामकाजी परिवार हैं, जिनकी आर्थिक स्थिति बेहतर नहीं है और इसके कारण कई परिवार अपने बच्चों को स्कूली शिक्षा देने में सक्षम नहीं हैं, जिसके कारण देश में कई बच्चे अशिक्षित रह जाते हैं। उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार ने ऐसे सभी छात्रों के लिए अपनी पढ़ाई पूरी करने और उन्हें शिक्षा के माध्यम से बेहतर भविष्य प्रदान करने के लिए संत रविदास शिक्षा सहायता योजना शुरू की है।

उनकी पढ़ाई पूरी करने के लिए उनके कक्षा स्तर के अनुसार हर माह आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी, यह सहायता राशि सरकार द्वारा आवेदक लड़का/लड़की को उनकी शिक्षा पूरी होने तक उनके बैंक खातों में अंतरित की जाएगी। ताकि परिवार की आर्थिक समस्या के कारण छात्रों की पढ़ाई में कोई बाधा न आए और राज्य के श्रमिक परिवार के छोटे बच्चों को पढ़ाई की उम्र में बाल श्रम जैसे कार्यों में शामिल न होना पड़े.

Click Here :- प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना

छात्रवृत्ति के लाभ से जुड़े दिशा निर्देश

  • योजना का लाभ सरकारी कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों को ही मिलेगा।
  • Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana का लाभ श्रमिक परिवार के दो बच्चों को ही प्रदान किया जायेगा।
  • योजना के तहत राज्य के लड़के/लड़कियों को कक्षा में प्रवेश लेने के बाद पहली किश्त प्रदान की जाएगी।
  • योजना का लाभ प्राप्त करने वाले आवेदक विद्यार्थी यदि किसी कक्षा में उत्तीर्ण होकर पुनः उसी कक्षा में प्रवेश लेते हैं तो वे इस योजना का लाभ पुनः प्राप्त नहीं कर सकेंगे।
  • मान्यता प्राप्त संस्थान से राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों के ही व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को मान्यता दी जाएगी।
  • सरकारी संस्थानों में पॉलिटेक्निक, IIT, मेडिकल, इंजीनियरिंग या समकक्ष पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने वाले छात्रों को योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए प्रमाण के रूप में प्रवेश पत्र या रसीद दिखाना आवश्यक है।
  • चिकित्सा में छात्रों की डिग्री (बीएएमएस/बीडीएस/एमबीबीएस) आदि तभी मान्य होगी जब आवेदक छात्र/छात्र सरकारी कॉलेजों में अपनी शिक्षा प्राप्त कर रहे हों।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लाभ

योजना से संबंधित लाभ की जानकारी नीचे दी गयी है-:

  • यूपी संत रविदास शिक्षा सहायता योजना 2022 के माध्यम से राज्य के श्रमिक परिवार के बच्चों को शिक्षा पूरी करने के लिए सरकार द्वारा छात्रवृत्ति की वित्तीय सहायता राशि प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के तहत छात्रों को उनकी स्कूली शिक्षा से लेकर सरकारी संस्थानों में शिक्षा पूरी करने तक के स्तर के आधार पर हर महीने 100 रुपये से 12000 रुपये तक की राशि प्रदान की जाएगी।
  • राज्य के लड़के/लड़कियां योजना के माध्यम से शिक्षित होकर आत्मनिर्भर बन सकेंगे और अपने परिवार की स्थिति में सुधार कर सकेंगे।
  • अपने बच्चों को योजना का लाभ प्रदान करने के लिए आवेदक श्रमिक परिवार ऑनलाइन माध्यम से योजना में आवेदन कर सकता है।
  • योजना के तहत 10वीं और 12वीं कक्षा पास करने वाली छात्राओं को सरकार की ओर से साइकिल मुहैया कराई जाएगी।

योजना के तहत वित्तीय सहायता

योजना के तहत सरकार द्वारा वर्ग स्तर के अनुसार दी जाने वाली राशि इस प्रकार है। आपको बता दें कि अब इस राशि में कुछ बदलाव किए गए हैं। हम उन्हें आगे बता रहे हैं।

  • कक्षा 1 से 5 तक के छात्रों के लिए – 100 रूपये प्रतिमाह दी जाने वाली सहायता राशि अब 150 रूपए प्रतिमाह के आधार पर छमाही 900 रूपए की आर्थिक सहायता मिलेगी।
  • 6 से 8 वीं कक्षा के छात्रों के लिए – पहले 150 रूपये प्रतिमाह सहायता राशि दी जाती थी। इस कक्षा के लिए अब छमाही 1200 रूपए प्रदान किये जाएंगे।
  • 9 से 10 वीं कक्षाके छात्रों के लिए – पहले 200 रूपये प्रतिमाह दिए जाते थे। अब एक बार में 1200 रूपए छमाही दिए जाएंगे।
  • 11 से 12 वीं कक्षा के छात्रों के लिए – पहले 500 रूपये प्रतिमाह दिए जाते थे। मगर अब 1500 रूपए छमाही प्रदान किये जाएंगे।
  • (Government Institute) शासकीय संस्थाओं में पॉलिटेक्निक या समकक्ष पाठ्यक्रमों के लिए – पहले 800 रूपये प्रतिमाह दिए जाते थे। अब इसके लिए सम्पूर्ण फीस की राशि एक बार में (एक किश्त में ) ही दे दी जाएगी।
  • शासकीय संस्थाओं में इंजीनियरिंग या समकक्ष पाठ्यक्रमों के लिए – पहले 3000 रूपये प्रतिमाह दिए जाते थे। अब 12000 रूपए प्रतिमाह दिए जाएंगे ।
  • शासकीय संस्थाओं में मेडिकल या समकक्ष पाठ्यक्रमों के लिए – पहले 5000 रूपये प्रतिमाह दिए जाते थे। अब 12000 रूपए प्रतिमाह दिए जायेंगे |
  • शिक्षा के किसी भी क्षेत्र में अनुसंधान (Research) हेतु – 12000 रूपये प्रतिमाह दिए जायेंगे।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए पात्रता

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदक को योजना की सभी पात्रता को पूरा करना आवश्यक है। पात्रता निम्नलिखित है

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का नागरिक होना चाहिए।
  • योजना का लाभ राज्य के श्रमिक वर्ग परिवार के बच्चों (लड़के/लड़कियों) को ही प्रदान किया जाएगा।
  • यदि आवेदक छात्र (अभिभावक) के माता या पिता श्रम बोर्ड के साथ पंजीकृत हैं, तो ही वह योजना के लाभ के लिए पात्र होंगे।
  • योजना के तहत शिक्षा प्राप्त करने वाले आवेदक की आयु 25 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • योजना का लाभ केवल सरकारी संस्थानों में पढ़ने वाले छात्रों को ही प्रदान किया जाता है।
  • संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के तहत आवेदक परिवार के केवल दो बच्चों को ही योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक छात्र की 60% उपस्थिति का प्रमाण शैक्षणिक संस्थान के प्राचार्य एवं सक्षम प्राधिकारी द्वारा प्रमाणित होने के बाद ही मान्य होगा।
  • योजना के तहत, इंजीनियरिंग और मेडिकल शिक्षा की पढ़ाई करने वाले छात्रों को 8000 रुपये और किसी भी विषय में शोध करने वाले छात्रों को 12000 रुपये की वित्तीय सहायता की जाएगी।, जिसमें आवेदक की अधिकतम आयु 35 वर्ष रखी गई है।
  • आवेदक छात्र को दी जाने वाली सहायता राशि सीधे उनके बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी जायगी, इसके लिए उनका बैंक में खाता होना अनिवार्य है।
  • योजना में आवेदन करने के लिए आवेदक लाभार्थियों के पास सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज होने आवश्यक हैं।

योजना के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना में आवेदन के लिए आवेदक के पास मांगे गए सभी दस्तावेज होने चाहिए, बिना संपूर्ण दस्तावेज के आवेदन प्रक्रिया पूरी नहीं होगी, इसके लिए सभी दस्तावेजों की जानकारी नीचे दी गई है।

  • निवास प्रमाण पत्र
  • माता-पिता का श्रमिक कार्ड
  • आवेदक का आधारकार्ड
  • परिवार का आय प्रमाण पत्र
  • स्कूल का प्रमाण पत्र
  • बैंक की पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना आवेदन प्रक्रिया

इस योजना में आवेदन हेतु निचे दी गई प्रक्रिया पालन करके आप इस योजना में आवेदन कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आवेदक को अपने क्षेत्र की नजदीकी तहसील या श्रम विभाग के कार्यालय में जाना है।
  • आपको योजना का आवेदन पत्र कार्यालय से प्राप्त करना है।
  • फॉर्म प्राप्त करने के बाद आपको फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे बच्चे का नाम, जन्म तिथि, कक्षा आदि भरनी है।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको फॉर्म में पूछे गए सभी दस्तावेजों को फॉर्म के साथ अटैच करना है।
  • अब आपको एक बार अपने फॉर्म को अच्छी तरह से जांचना है और उसके बाद फॉर्म को कार्यालय में जमा करना है।
  • इस तरह आपकी आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।
  • जिसके बाद अधिकारियों द्वारा आपके फॉर्म के पूर्ण सत्यापन के बाद ही आपको योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

निष्कर्ष

उ०प्र० भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अन्तर्गत उ०प्र० राज्य के मूल निवासी पंजीकृत निर्माण श्रमिक को श्रमिकों के २५ वर्ष अथवा उससे कम के पुत्र ⁄ पुत्रियों जो उ०प्र० की भौगोलिक सीमा में स्थित (कक्षा 12 तक) अथवा बाहर देश की सीमा में स्थित किसी विद्यालय ⁄ संस्था के किसी भी कक्षा में अध्ययनरत हो, के शिक्षा पर होने वाले व्यय प्रतिपूर्ति किया जाना है।

हेल्पलाइन नंबर

हमने लेख के माध्यम से आपको संत रविदास शिक्षा सहायता योजना से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की है, लेकिन फिर भी, यदि आपको योजना से संबंधित कोई समस्या है या आप इस योजना से संबंधित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप इसके हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर सकते हैं।

हेल्पलाइन नंबर:- 1800 180 5412

योजना से जुड़े कुछ प्रश्न/उत्तर

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना क्या है ?

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी एक योजना है, जिसके तहत सरकार राज्य के श्रमिक वर्ग परिवार के बच्चों को उनके शिक्षा स्तर के अनुसार छात्रवृत्ति की वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना किस विभाग द्वारा संचालित है?

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना श्रम विभाग द्वारा संचालित है।

क्या इस योजना का लाभ केवल श्रमिक परिवार के बच्चों को ही प्रदान किया जायेगा?

हाँ, संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का लाभ केवल श्रमिक परिवार के बच्चों को ही प्रदान किया जायेगा।

Leave a Comment

48 − = 46

error: Content is protected !!