Prithvi Vigyan Scheme 2024 को मिली मंजूरी, पीएम मोदी ने दिया 4797 करोड़ रुपए बजट

Prithvi Vigyan Scheme:-

आने वाले वर्षों में देशों में बाढ़, भूकंप, सुनामी, तूफान जैसी प्राकृतिक आपदाओं की सटीक भविष्यवाणी और समुद्री और ध्रुवीय प्रशासनिक अन्वेषण के लिए एक व्यापक अध्ययन प्रणाली विकसित की जाएगी। जिसके लिए केंद्रीय विज्ञान द्वारा पृथ्वी विज्ञान योजना को मंजूरी दे दी गई है। शुक्रवार को कैबिनेट बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में 4797 करोड़ की इस योजना पर मोहर लग गई है। यह पहली प्रगति पृथ्वी प्रणाली विज्ञान की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतीक है जिसमें जलवायु विज्ञान, अनुसंधान, ध्रुवीय विज्ञान, समुद्र विज्ञान, भूकंप विज्ञान और कई अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्र शामिल हैं।

यह योजना प्राकृतिक आपदाओं की भविष्यवाणी और प्रबंधन में भारत के उद्यमों को मजबूत करेगी जिससे जीवन और संपत्ति की रक्षा होगी। इस लेख के हम पृथ्वी विज्ञान योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण साझा करेंगे जैसे इसका उद्देश्य क्या है? और इस योजना के अहम पहलू क्या हैं? आदि| यदि आप इस योजना से संबंधित जानकारी जानना चाहते है तो इस लेख को अंत तक पढ़ें|

Prithvi Vigyan Scheme

Prithvi Vigyan Scheme 2024

Prithvi vigyan yojana वैज्ञानिकों को पृथ्वी के बदलावों का अध्ययन करके प्राकृतिक आपदाओं के बारे में अधिक जानने में मदद करेगी। वे पृथ्वी से महत्वपूर्ण संकेतों पर नज़र रखने के लिए विशेष उपकरणों का उपयोग करेंगे। पृथ्वी का अध्ययन करने और नई चीजें सीखने के लिए कई अलग-अलग संस्थान मिलकर काम करेंगे। सरकार इस योजना को 5 साल तक समर्थन देने और इसे पूरा करने के लिए 4797 करोड़ रुपए देने पर सहमत हो गई है। यह योजना वैज्ञानिकों को मौसम, महासागरों, भूकंपों और अन्य समस्याओं को समझने और हल करने में मदद करेगी। वे यह भी सीखेंगे कि पृथ्वी के संसाधनों का उपयोग इस तरह से कैसे किया जाए जो उन्हें भविष्य के लिए सुरक्षित रखे।

पृथ्वी विज्ञान योजना का उद्देश्य

Prithvi Vigyan Yojana का लक्ष्य वायुमंडल, महासागर, भूमंडल और ठोस पृथ्वी के दीर्घकालिक अवलोकनों को बढ़ाना और बनाए रखना है, जो पृथ्वी प्रणालियों में बदलाव का महत्वपूर्ण संकेत रिकॉर्ड करते हैं। साथ ही मौसम को समझने और भविष्यवाणी करने के लिए मॉडलिंग सिस्टम का विकास शामिल है। इसके अलावा, पृथ्वी के उच्च समुद्री क्षेत्रों और ध्रुवीय क्षेत्रों में नई घटनाओं और संसाधनों की खोज की जाएगी। साथ ही, समुद्री संसाधनों का निरंतर उपयोग और सामाजिक उद्देश्यों के लिए उनकी खोज भी शामिल है। इस योजना का परिणाम सामाजिक, पर्यावरणीय और आर्थिक लाभ के लिए पृथ्वी प्रणाली विज्ञान से प्राप्त जानकारी और अनुभव होगा।

Prithvi Vigyan Yojana के अहम पहलू

पृथ्वी विज्ञान योजना में प्राथमिक प्रणाली के सभी पांच भागों को समग्र रूप में शामिल किया जाएगा, जिससे देश को विश्वसनीय सेवाएं देने और पृथ्वी प्रणाली विज्ञान की समझ में सुधार होगा। योजना के प्रत्येक हिस्से एक दूसरे पर निर्भर हैं। निम्नलिखित पृथ्वी विज्ञान योजना के पांच महत्वपूर्ण पहलू हैं:

  • पोलर साइंस एंड क्रायोस्फीयर रिसर्च (PACER)
  • सीस्मोलॉजी और जियोसाइंस (SAGE)
  • रिसर्च, एजुकेशन, ट्रेंनिंग एंड आउटरिच (REACHOUT)
  • एटमॉस्फेयर एंड क्लाइमेट रिसर्च मॉडलिंग ऑबजर्विंग सिस्टम (ACROSS)
  • ओशियन सर्विसेज, मॉडलिंग एप्लीकेशन, रिसोर्स एंड टेक्नोलॉजी (O-SMART)

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय को दिए गए निर्देश

इस योजना के लिए पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय को निर्देश दिए गए हैं, जिसका उद्देश्य समाज को मौसम, जलवायु, तटीय राज्य, भूकंप और प्रगति खतरों से संबंधित विज्ञान प्रदान करना है। इसके अलावा, पृथ्वी के तीन ध्रुवों (हिमालय, अंटार्कटिका और आर्कटिक) की तलाश करने के लिए भी निर्देश दिए गए हैं। प्राकृतिक आपदाओं से लोगों को बचाने के साथ साथ संपत्ति के नुकसान को कम करने के लिए मंत्रालय, राज्य सरकार और विभिन्न एजेंसियों को प्रभावी उपायों का उपयोग करने के निर्देश दिए गए हैं।

मंत्रालय की मदद करने वाले संस्थान

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की मदद करने वाले 10 संस्थान निम्नलिखित है:-

  • भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD)
  • राष्ट्रीय तटीय अनुसंधान केंद्र (NCCR)
  • राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (NCS)
  • भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान (IITM)
  • राष्ट्रीय महासागर प्रौद्योगिकी संस्थान (NIOT)
  • राष्ट्रीय पृथ्वी विज्ञान अध्ययन केंद्र (NCESS)
  • समुद्री जीवन संसाधन और परिस्थिति की केंद्र (CMLRE)
  • राष्ट्रीय ध्रुव और महासागर अनुसंधान केंद्र (NCPOR)
  • भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र (INCOIS)
  • राष्ट्रीय मध्यम अवधि मौसम पूर्व अनुमान केंद्र (NCMRWF)

अन्य महत्वपूर्ण लेख

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top