Categories: Central Govt Schemes

श्रमिक स्पेशल ट्रेन 2020: जानिए ट्रेन की लिस्ट, रूट, टाइमिंग, कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन, जानें पूरी प्रक्रिया?

श्रमिक स्पेशल ट्रेन: जानिए ट्रेन की लिस्ट, रूट, टाइमिंग, कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन, जानें पूरी प्रक्रिया | श्रमिक स्पेशल ट्रेन से कैसे जाएं घर? | Sharmik Special Train

जैसे कि अभी Lockdown 3 मई के बाद 2 हफ्ते के लिए और बढ़ाया गया है। ऐसे में देश के विभिन्न स्थानों पर फंसे कामगारों, श्रमिकों, पर्यटकों, छात्रों और मजदूरों को और परेशानिओं का सामना न करना पड़े और उन्हें उनके गृह राज्य तक पहुँचाया जा सके इसके लिए केंद्र सरकार ने 1 मई से विशेष रेलगाड़ियां (स्पेशल श्रमिक ट्रेन) चलाने का फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को “श्रम दिवस” से “स्पेशल श्रमिक ट्रेन” चलने का निर्णय लिया है।
1 may, शुक्रवार को सुबह 4:50 बजे हैदराबाद से झारखंड के 1,200 यात्रियों के साथ प्राथमिक ऐसी ट्रेन चलाई गई है। रेलयात्रियों ने छह “श्रमिक स्पेशल” ट्रेनों की सूचना दी है जो हटिया, नासिक से लखनऊ, अलुवा से भुवनेश्वर, नासिक से भोपाल, जयपुर से पटना और कोटा से हटिया तक जाएगी।

Contents hide

श्रमिक स्पेशल ट्रेन का उद्देश्य –

अन्य स्थानों पर फंसे मजदूर और छात्रों को घर वापस लाने के लिए ट्रेन की सुविधा प्रदान करना।

श्रमिक स्पेशल ट्रेन का किराया

स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेन के लिए 50 रुपये प्रति यात्री किराया देना होगा। 

  • सुपरफास्ट शुल्क – 30 रुपये
  • अतिरिक्त प्रभार – 20 रुपये

कैसे कार्य करेंगी श्रमिक स्पेशल ट्रेन

स्क्रीनिंग की सुविधा –

स्टेशन पहुंचने के बाद सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी। लोगों के स्वस्थ पाए जाने पर ही उन्हें ट्रेन में बैठने कि अनुमति दी जाएगी। जब ट्रेन अपने गंतव्य स्थान पर पहुंच जाएगी तो वहां फिर से स्क्रीनिंग की जाएगी। अगर कोरोनावायरस के लक्षण मिलते हैं तो ऐसे लोगों को क्वारंटाइन में भेजा जाएगा।

सोशल डिस्टन्सिंग –

रेलवे यात्रियों की भागीदारी के साथ सोशल डिस्टन्सिंग के मानकों और स्वच्छता की गारंटी देने की कोशिश करेगा।

प्वाइंट टू प्वाइंट होगी यात्रा –

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को पॉइंट-टू-पॉइंट चलाया जा रहा है। इसके तहत ये ट्रेनें एक निर्धारित जगह से एक तय मंजिल के लिए चलेगी, बीच में ये कहीं नहीं रुकेगी। आमतौर पर श्रमिक स्पेशल ट्रेन 500 किलोमीटर से अधिक की दूरी के लिए चलाई जा रही हैं। प्रत्येक ट्रेन लगभग 1,200 यात्रियों को ले जा सकती है। यात्रा में भोजन और पानी शामिल होगा। ये खर्च यात्रियों की जगह राज्य सरकारें उठाएंगी।

90 फीसदी भरी होनी चाहिए ट्रेन –

रेलवे ने कहा है कि हर श्रमिक स्पेशल ट्रेन एक नॉन-स्टॉप ट्रेन होगी, जो सिर्फ एक ही गंतव्य तक पहुंचेगी। पूरी ट्रेन सोशल डिस्टेंसिंग के साथ (जिसमें मिडिल बर्थ नहीं है) करीब 1200 यात्रियों को बैठा सकती है। जिस राज्य से ट्रेन चल रही है, वह राज्य सीटों को देखते हुए ही यात्रियों को ट्रेन में बैठाए और ये सुनिश्चित करे कि ट्रेन में कम से कम 90 फीसदी लोग हों। यानी करीब 1200 लोग ट्रेन में हों।

श्रमिक विशेष ट्रेनों के लिए पंजीकरण कैसे करें?

  • वे फंसे हुए व्यक्ति जो एक राज्य से दूसरे राज्य की यात्रा करने के इच्छुक हैं वे राज्य सरकार के पास पंजीकरण करा सकते हैं।
  • आपको नोडल अधिकारी या स्थानीय जिला प्रशासन के द्वारा आवेदन करना होगा, इसके बाद वहां के नोडल अधिकारी द्वारा तैयार की गयी सूची रेलवे को सौंपी जाएंगी।
  • जिनका लिस्ट में नाम होगा, उन्हें ही स्टेशन में जाने दिया जाएगा।
  • किसी ऐप या आईआरसीटीसी वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन पंजीकरण या बुकिंग नहीं कर सकते हैं।
  • यह सुविधा सार्वजनिक रूप से नहीं खुली है।
  • पंजीकरण और बुकिंग केवल राज्य सरकार के अधिकारियों (विशेष नोडल अधिकारी) द्वारा किया जा सकता है।

यह भी देखे – प्रवासी श्रमिक (श्रम) पंजीकरण फॉर्म लिंक

आवश्यक बातें (Important Points to Note):

  • आईआरसीटीसी की आधिकारिक वेबसाइट का उपयोग करके ट्रेन के लिए कोई पंजीकरण नहीं होगा।
  • रेलरोड और राज्य सरकारें इन कोविड-19 लॉकडाउन असाधारण ट्रेनों के समन्वय और सुचारू रूप से चलाने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को नोडल अधिकारी के रूप में चुनेंगी।
  • जो व्यक्ति सुरक्षित और स्वस्थ है, सिर्फ उसे यात्रा करने की अनुमति होगी।

श्रमिक स्पेशल ट्रेन में यात्रा करने से पहले जरुरी नियमों का पालन करना –

  • श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सफर करने के लिए मास्क लगाना जरूरी होगा।
  • सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) or कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना होगा।
  • यात्रियों को सरकार द्वारा भोजन और पेयजल दिया जाएगा।
  • स्टेशन पहुंचने के बाद सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी।

डेस्टिनेशन वाली राज्य सरकार के लिए नियम

  • राज्य सरकार की तरफ से ही यात्रियों को आयोग्य सेतु ऐप डाउनलोड कर के इस्तेमाल करने के प्रेरित किया जाना चाहिए।
  • यात्रियों को राज्य सरकार अथॉरिटीज़ की तरफ से ही रिसीव किया जाएगा।
  • राज्य सरकारें ही यात्रियों की स्क्रीनिंग, क्वारंटीन (अगर जरूरत हो तो) और स्टेशन से दूसरी जगहों तक जाने की व्यवस्था करेंगी।

श्रमिक स्पेशल ट्रेन राज्यवार सूची

असम कर्नाटक मणिपुर बिहार नागालैंड
पंजाब राजस्थान तेलंगाना आंध्र प्रदेश मध्यप्रदेश
केरला चंडीगढ़ उत्तर प्रदेश उड़ीसा हिमाचल
सिक्किम तमिलनाडु दमन द्वीप बंगाल मुंबई
छत्तीसगढ़ महाराष्ट्र बैंगलोर दिल्ली जम्मू
नासिक दादर नगर हवेली हरियाणा त्रिपुरा झारखण्ड

श्रमिक स्पेशल ट्रेन लिस्ट, रूट और टाइमिंग

1 मई के लिए ट्रेन 2 मई के लिए ट्रेन 3 मई के लिए ट्रेन 4 मई के लिए ट्रेन
  • लिंगमपल्ली से हटिया तक
  • अलुवा से भुवनेश्वर
  • नासिक से लखनऊ
  • नासिक से भोपाल
  • जयपुर से पटना
  • कोटा से हटिया
  • नासिक से लखनऊ – रात 09:30 बजे प्रस्थान
  • अलुवा से भुवनेश्वर- शाम 6 बजे प्रस्थान
  • नासिक से भोपाल- रात 8 बजे प्रस्थान
  • जयपुर से पटना- रात 10 बजे प्रस्थान
  • कोटा से हटिया- रात 9 बजे प्रस्थान
  • जयपुर से पटना
  • कोटा से हटिया
  • नासिक से लखनऊ
  • नासिक से भोपाल 
  • लिंगमपल्ली से हटिया
  •  एर्नाकुलम से भुवनेश्वर
  • तिरुअनंतपुरम से हटिया 
  • साबरमती से आगरा
  • जयपुर से पटना
  • कोटा से हटिया
  • नासिक से लखनऊ
  • नासिक से भोपाल 
  • लिंगमपल्ली से हटिया
  •  एर्नाकुलम से भुवनेश्वर
  • तिरुअनंतपुरम से हटिया 
  • साबरमती से आगरा

 

शनिवार को रवाना हुईं 10 स्पेशल ट्रेनें

देश के आठ राज्यों में फंसे उत्तर प्रदेश, झारखंड और बिहार के करीब 11 हजार प्रवासियों को लेकर शनिवार को दस स्पेशल ट्रेनें रवाना हुईं। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना, केरल, राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात के अनुरोध पर ये ट्रेनें चलाई गईं। राज्यों के मुताबिक, इन श्रमिकों को मेडिकल जांच के बाद बसों से उनके जिलों में भेजा जाएगा।

बिहार आने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का शेड्यूल :

ट्रेन कहां से चलेगी चलने की तारीख पहुंचेगी आएगी
बेंगलुरु दानापुर स्पेशल बेंगलुरु 3 May दानापुर 5 May
बेंगलुरु दानापुर श्रमिक स्पे. बेंगलुरु 3 May दानापुर 5 May
कोटा गया स्पेशल कोटा 3 May गया 4 May
कोटा बरौनी स्पेशल कोटा 3 May बरौनी 4 May

यह भी देखें  : कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान क्या क्या योजनाएं चला रही है केंद्र सरकार और राज्य सरकार
यह भी देखें  : प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना झारखण्ड

योजना के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQ)

श्रमिक स्पेशल ट्रेन के टिकट का किराया कितना है ?

स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेन के लिए 50 रुपये प्रति यात्री किराया देना होगा।


श्रमिक स्पेशल ट्रेन का टिकट कैसे बुक करें ?

ऑनलाइन टिकट की कोई सुविधा नहीं है । आपको अपने पास के स्पेशल नोडल ऑफिसर से संपर्क करना होगा ।


श्रमिक स्पेशल ट्रेन कहां से कहां तक चलेगी?

स्पेशल ट्रेनों को पॉइंट-टू-पॉइंट चलाया जाएगा । ये ट्रेनें बीच में कहीं नहीं रुकेगी ।

ई-कल्याण छात्रवृत्ति योजना की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।
राजस्थान बेरोजगारी भत्ता योजना की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।
झारखण्ड बेरोजगारी भत्ता 2020 की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।
उत्तराखंड प्रवासी पंजीकरण पोर्टल की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।

*हमारी इस वेबसाइट का उद्देश्य आप तक सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओ की जानकारी पहुँचाना है।
अगर आपको ये जानकारी सही लगे तो दूसरो के साथ भी साँझा कीजिये।
कोई त्रुटि हो तो हमे जरूर बताए।

Priya