Categories: Govt-Schemes

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना- क्या है उद्देश्य । जानिए पूरी जानकारी

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना- क्या है उद्देश्य । जानिए पूरी जानकारी

भारत सरकार ने सभी को शिक्षा प्रदान करने के लिए और साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए 1 विद्यालय योजना की शुरुआत की है- कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना।

2004 में अनुसूचित जाति, जनजाति व पिछड़े वर्ग की बालिकाओं और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए आवासीय उच्च प्राथमिक विद्यालय – कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय योजना का शुभारंभ किया गया था। योजना की शुरुआत पहले के दो सालों तक एक अलग योजना के रूप में सर्व शिक्षा अभियान, बालिकाओं के लिए प्राथमिक स्तर पर शिक्षा दिलाने का राष्ट्रीय कार्यक्रम व महिला समाख्या योजना के साथ सामंजस्य बैठाते हुए की गई थी, लेकिन 1 अप्रैल, 2007 से इसे सर्व शिक्षा अभियान में एक अलग भाग के रूप में विलय कर दिया।

यह केंद्र सरकार द्वारा चलाई जाने वाली एक बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है। इस योजना के चलते देश की पिछड़े वर्ग और गावं में निवास करने वाली अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक समुदायों और गरीबी रेखा से नीचे की लड़कियों को मुफ्त में शिक्षा दी जाती है।

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना के उद्देश्य-

  • सभी बालिकाओं को मुफ्त शिक्षा देना।
  • सभी बालिकाओं को आवास उपलब्ध कराना।
  • पुस्तकें तथा शिक्षण सामग्री मुफ्त में उपलब्ध करवाना।
  • विषम परिस्थितियों में जीवन-यापन करने वाली बालिकाओं के लिए आवासीय विद्यालय के माध्यम से गुणवत्ता युक्त प्रारंभिक शिक्षा उपलब्ध कराना है।
  • माता-पिता/अभिभावकों को प्रेरित करना ताकि बालिकाओं को विद्यालयों में भेजे।
  • एक स्थान से दूसरे स्थान घूमनेवाली जाति या समुदायों की बालिकाओं पर विशेष ध्यान केन्द्रित करना।
  • स्कूल यूनिफार्म, स्वेटर, जूते-मोज़े आदि मुफ्त में देना।
  • ऐसी बालिकाओं पर ध्यान देना जो विद्यालय से बाहर (अनामांकित) हैं तथा जिनकी उम्र 10 वर्ष से ऊपर है।
  • दैनिक उपयोग वस्तुओं इत्यादि उपलब्ध करना।
  • प्रतिमाह 100/- बालिकओं के व्यक्तिगत बैंक खाते में जमा कराया जाना ताकि उनकी कुछ जरूतमंद चीजों को पूरा किया जा सके।

कहाँ कर सकते है स्कूल की स्थापना?

  • जहाँ अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यकों की जनसंख्या अधिक हो और उनमें महिला साक्षरता की दर काफी निम्न और स्कूल से बाहर रहने वाली (अर्थात् स्कूल न जाने वाली) बालिकाओं की संख्या काफी अधिक हो।
  • ऐसे क्षेत्र जहाँ निम्न महिला साक्षरता दर हो
  • ऐसे क्षेत्र जहाँ छोटे और बिखरे हुए निवास हों और वहां स्कूल की स्थापना संभव न हो ।

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना की विशेषताएं

  • इस योजना पर 2020 तक अमल किया जाएगा |
  • केंद्र व राज्य सरकार इसमें क्रमश: 75% व 25% राशि का योगदान करेंगे।

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना में कितना है आरक्षण?

इन विद्यालयों में कम से कम 75% सीटें अनुसूचित जाति व जनजाति, पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक वर्गो की बालिकाओं के लिए आरक्षित होंगी जबकि शेष 25% गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार की बालिकाओं के लिए आरक्षित होंगी।

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना में नया क्या है ?

  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना को सार्थक बनाने के लिए कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में अब 12 वीं (इंटर) तक की पढ़ाई होगी।
  • अभी कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय कक्षा 6 से 8 तक ही संचालित हैं।

योजना के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (FAQ)

क्या है कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय योजना का उद्देश्य?

विषम परिस्थितियों में जीवन-यापन करने वाली बालिकाओं के लिए आवासीय विद्यालय के माध्यम से गुणवत्ता युक्त प्रारंभिक शिक्षा उपलब्ध कराना है।


योजना में कितना है आरक्षण?

75% सीटें अनुसूचित जाति व जनजाति, पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक वर्गो की बालिकाओं के लिए
25% गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार की बालिकाओं के लिए


प्रधानमंत्री आवास योजना
की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।
एलआईसी जीवन लक्ष्य योजना की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।
बेटी बचाओ बेटी पढाओ की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।
नमामि गंगे योजना की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।
झारखण्ड ई-कल्याण छात्रवृत्ति योजना की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करे।

हमारी इस वेबसाइट का उद्देश्य आप तक सरकार द्वारा चलाई जा रही सभी योजनाओ की जानकारी पहुँचाना है।
अगर आपको ये जानकारी सही लगे तो दूसरो के साथ भी साँझा कीजिये।
कोई त्रुटि हो तो हमे जरूर बताए।

Priya